Save 20% Geetanjali punah path Front Cover

Gitanjali Punah Path

‘गीतांजलि’ का अनुगीतात्मक अनुवाद ‘पुनःपाठ’ के रूप में हिन्दी के सहृदय रसिकों को सम्भवतः वही अनुभूति देगा, जो बंगला के साहित्य प्रेमियों मूल ‘गीतांजलि’ देती रही है। भारतीय गीतसर्जक रचनाधर्मियों के लिए यह कृति वरदान सिद्ध होगी।

249.00 200.00
Quick View
Buy Now